आज के दौर में इलैक्ट्रोनिक डिवाइसेस हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गई हैं. फिर चाहे वे पेरेंट्स हों या बच्चे. बच्चों को व्यस्त रखने के लिए माता-पिता अकसर उनके हाथ में फोन थमा देते हैं या फिर उन्हे टीवी के सामने बैठा देते हैं. ऐसे में कई बार माता-पिता इस बात का ध्यान तक नहीं देते कि बच्चा क्या देख रहा है और कितनी देर से स्क्रीन के सामने बैठा है. शहरी जीवन शैली के कारण बच्चों का खेल-कूद, भाग-दौड़ कम होती जा रही है. बच्चे ज्यादा से ज्यादा समय घर की चार दिवारी के अंदर इलैक्ट्रोनिक गैजेट्स के साथ बिताते हैं. इसका प्रभाव लंबे समय के बाद देखने को मिलता है.

2 साल के शिवम् को कार्टून देखना पसंद है, चाहे वह किसी भी भाषा में हो. वह दिन में 2 से 3 घण्टे स्क्रीन के सामने बैठा रहता है.

अक्सर जब हम अपने घर में काम में बहुत ज्यादा व्यस्त रहते हैं तब बच्चों को फोन में कार्टून लगा कर दे देते हैं. धीरे धीरे बच्चों को फ़ोन की आदत लग जाती है और बिना उसके वो कोई काम नहीं करते है जैसे खाते वक़्त सोते वक़्त भी बिना फ़ोन के वो नहीं रह पाते है. कोशिश करना चाहिए की बच्चें अपना जायदा समय प्लेग्राउंड में बिताए फ़ोन या इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेस के साथ नहीं . आज के समय में बच्चों को पूरी तरह से मोबाइल फोन से दूर नहीं रखा जा सकता. लेकिन अगर बच्चों को फोन से दूर करना है तो उसके लिए पेरेंट्स को बच्चों को दूसरे खेलों में व्यस्त रखना चाहिए. 

WHO की चेतावनी

विश्व स्वास्थ संगठन यानी WHO ने हाल ही में जारी की गई रिपोर्ट में 5 साल से कम उम्र के बच्चों का स्क्रीन टाइम निर्धारित कर दिया है. अब तक लोगों का सिर्फ ये मानना था कि स्क्रीन के सामने ज्यादा समय बिताने से आंखें खराब होती हैं लेकन, डब्ल्यूएचओ की इस रिपोर्ट के मुताबिक, इसके परिणाम ज्यादा खतरनाक हैं. 5 साल से कम उम्र के बच्चों का निर्धारित समय से ज्यादा स्क्रीन टाइम उनके शारिरिक और मानसिक विकास पर सीधा असर डालता है. इस रिपोर्ट के जरिए WHO ने माता-पिता या अभिभावक को बच्चों को मोबाइल फोन, टीवी स्क्रीन, लैपटॉप और अन्य इलैक्ट्रोनिक उपकरणों से दूर रखने की हिदायत दी है.

WHO की गाइडलाइन-

1 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए :
एक साल से कम उम्र के बच्चों के लिए जीरो स्क्रीन टाइम निर्धारित किया गया है. यानी उन्हें बिलकुल भी स्क्रीन के सामने नहीं रखना है. इसके अलावा उन्हें दिन में आधा घण्टे पेट के बल लिटाना चाहिए. फर्श पर तरह-तरह के खेल खिलाना भी बच्चे के शारिरिक विकास के लिए बेहतर है.

1 से 2 साल के बच्चों के लिए :
इस उम्र के बच्चों के लिए दिनभर में स्क्रीन टाइम 1 घण्टे से ज्यादा नहीं होना चाहिए. इसके साथ ही 3 घण्टे फिजिकल एक्टिविटी करने की सलाह दी गई है. इस उम्र में बच्चों को कहानी सुनाना उनके मानसिक विकास के लिए फाएदेमंद साबित होगा. 

3 से 4 साल तक के बच्चों के लिए :
3 से 4 साल की उम्र के बच्चों के लिए भी दिनभर में ज्यादा से ज्यादा समय 1 घण्टा निर्घारित किया गया है. लेकिन इनको 2 से 3 साल के बच्चों के मुकाबले ज्यादा फिजिकल एक्टिविटीस करने की सलाह दी गई है.

डॉक्टर भी सही मानते हैं WHO की गाइडलाइंस
बच्चों के मानसिक और शारिरिक विकास के लिए बातचीत बहुत जरुरी है. 5 साल से कम उम्र के बच्चों कॉगनिटिव स्किल विकसित नहीं हो पाती है. इसका मतलब ये है कि बच्चे सही और गलत में फर्क नहीं कर सकते. वे जो देखते हैं वही सीखते हैं. कई बार देखा गया है कि बच्चे कार्टून की तरह ही बोलने की कोशिश करते हैं. कई पेरेंट्स ये शिकायत लेकर भी आते हैं कि बच्चे बहुत ज्यादा एग्रेसिव हो रहे हैं. अकसर पेरेंट्स बच्चों को खाना खिलाने के लिए भी टीवी के सामने बैठा देते हैं या फिर फोन में कुछ न कुछ लगा कर दे देते हैं. ये बहुत ही गलत प्रेक्टिस है. ऐसे में बच्चों का ध्यान बट जाता है और वे भूख से ज्यादा खाना खा लेते हैं. इस उम्र में बच्चों की इमेजिनेशन तेज होती है. इसलिए पहले लोग बच्चों को कहानियां सुनाया करते थे. लेकिन अब पेरेंट्स कहानियां सुनाने की बजाय बच्चों को फोन पकड़ा देते हैं.