पूर्व क्रिकेटर और पंजाब के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की तलाश मे बिहार पुलिस लगी हुई है। पिछले तीन दिनों से बिहार पुलिस सिद्धू की तलाश में अमृतसर पहुंचकर उनके घर के बाहर इंतजार कर रही है। सिद्धू के खिलाफ बिहार के कटिहार में मुकदमा दर्ज हुआ है, इसी मामले में बिहार पुलिस उन्हें समन देने के लिए अमृतसर पहुंची है। बताया जा रहा है कि बिहार पुलिस इससे पहले भी सिद्धू के पास समन लेकर आ चुकी है, तब भी पूर्व क्रिकेटर नहीं मिले थे। बिहार पुलिस का कहना है कि इस बार अगर सिद्धू अगर समन रिसीव नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हो सकता है। बिहार पुलिस की ओर से कहा गया है कि वह लगातार सिद्धू से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन उधर से कोई रेस्पांस नहीं मिल रहा है।

क्या है सिद्धू के खिलाफ मामला ?

बिहार के कटिहार जिले के वरसोई थाने में सिद्धू के खिलाफ मुकदमा दर्ज है। आरोप है कि 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान सिद्धू ने विवादित भाषण दिया था। सिद्धू ने 16 अप्रैल 2019 को एक चुनावी सभा में अपने भाषण में जिन शब्दों का प्रयोग किया था वह आचार संहिता का उल्लंघन का मामला था।

नवजोत सिंह सिद्धू ने यह विवादित भाषण 2019 के लोकसभा चुनाव में कटिहार में कांग्रेस के उम्‍मीदवार तारिक अनवर के पक्ष में किए गए चुनावी सभा में दिया था। आरोप है कि सिद्धू ने जिन शब्दों का प्रयोग किया था उससे समुदाय विशेष को उकसाया जा सकता है।

पहले भी की जा चुकी है समन देने की कोशिश

बिहार पुलिस का कहना है कि इसी केस में पिछले साल दिसंबर में भी सिद्धू को समन देने की कोशिश की गई थी, लेकिन तभी पूर्व क्रिकेटर ने रेस्पांस नहीं दिया था। कटिहार जिले के वरसोई थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर जनार्दन और सब इंस्पेक्टर जावेद अहमद ने बताया कि अब उन्हें समन तामील करवाना जरूरी हो गया है। समन रिसीव करने के बाद सिद्धू जमानत ले सकते हैं, लेकिन अगर वह समन रिसीव नहीं करते हैं तो गिरफ्तारी वारंट जारी हो सकता है।

उस दौरान सिद्धू की कही बातों से खुद कांग्रेस नेता तारिक अनवर ने असहमति जताई थी। कई राजनेताओं ने सिद्धू पर विवाद को पैदा करने वाली बात कहने का आरोप लगाया था।