लोकसभा चुनाव प्रचार के सिलसिले में सोमवार को सीएम नीतीश कुमार ने पातेपुर व बेगूसराय के बखरी में जनसभा को संबोधित किया| वैशाली (हाजीपुर) के पातेपुर में सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए सरकार ने पिछले पांच वर्षों में जो कार्य किया है, उसका डंका आज देश-दुनिया में बज रहा है| उन्होंने कहा कि कुछ लोग धन कमाने के लिए सत्ता में आना चाहते हैं| बिहार में पहली बार महिला मुख्यमंत्री के नेतृत्व में सरकार बनी थी, लेकिन महिलाओं के लिए कुछ नहीं किया गया| हम विकास के नाम पर वोट मांगने आये हैं|

जबकि, बेगूसराय के बखरी में सीएम नीतीश ने कहा कि देश व बिहार के विकास के लिए नरेंद्र मोदी का दोबारा पीएम बनना जरूरी है| उन्होंने कानून का राज्य और न्याय के साथ विकास को अपनी प्रतिबद्धता की चर्चा की| तो साथ में लालू-राबड़ी सरकार में बिहार के बदहाल चेहरों का भी चर्चा कर उनपर जमकर निशाना साधा|

शराबबंदी से समाज में आयी जागृति

मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून का राज्य और न्याय के साथ विकास किया है| 13 साल के शासनकाल में महिलाओं को सुरक्षा और सम्मान मिला है| उन्होंने महिलाओं के लिए सरकारी सेवाओं में 35 प्रतिशत तथा निकाय चुनावों में 50 प्रतिशत आरक्षण दिये जाने की भी चर्चा करते हुए अपने सरकार के उपलब्धियों को गिनाया|

तेरह वर्षों की सेवा की मजदूरी मांगने आये हैं

उधर, बाढ़ के बेलछी प्रखंड के सिकंदरा गांव में मुंगेर लोकसभा क्षेत्र के एनडीए प्रत्याशी राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह के पक्ष में आयोजित चुनावी सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि, उन्होंने 13 वर्षों से लगातार राज्य की सेवा की है. इसी सेवा की मजदूरी मांगने के लिए वह पहुंचे हैं| राज्य में विकास को लेकर कई कार्यक्रम चलाये गये हैं, जिससे समाज में जागृति आयी है|

पति-पत्नी की सरकार का कार्यकाल सूबे के लोगों से छिपा नहीं है : सीएम

घोसवरी प्रखंड के कुर्मीचक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को चुनावी सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि पति-पत्नी की सरकार का कार्यकाल सूबे के लोगों से छिपा नहीं है| शिक्षा व्यवस्था चौपट थी| महज 12 फीसदी बच्चे स्कूल जाते थे| अपराधियों का साम्राज्य कायम था| आज 99 फीसदी बच्चे स्कूल जा रहे हैं| उच्च शिक्षा के लिये हर वर्ग के छात्रों के लिए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड की योजना चलायी जा रही है| टाल में खेती के विकास के लिए तकरीबन 1900 करोड़ की योजनाओं पर काम चल रहा है. पइन की उड़ाही करायी गयी है|