बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर के एक ट्वीट ने एक बार फिर से बॉलीवुड के बड़े स्टार्स की छोटी सोच को उजागर करने का काम किया है | फादर्स डे पर सोनम ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, “आज फादर्स डे के मौके पर मैं एक बात और कहना चाहूँगी, हाँ मैं अपने पिता की बेटी हूँ और उन्हीं की वजह से यहाँ हूँ | यह मेरा सौभाग्य है और यह कोई शर्म की बात नहीं है | मेरे पिता ने मुझे यह सब देने के लिये कड़ी मेहनत की है | मैं जिनके यहाँ पैदा हुई तथा जिनकी संतान हूँ ये मेरे कर्म हैं | मुझे इसपर गर्व है |” अपने इस ट्वीट की वजह से सोनम अब ट्विटर पर ट्रोल होने लग गयी हैं |

सुशांत की मौत के बाद नेपोटीज्म बन गया है ट्रेंडिंग टॉपिक

स्वर्गीय सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद नेपोटीज्म एक ट्रेंडिंग टॉपिक बन गया है तथा लोग स्टार किड्स को ट्रोल कर रहे हैं | ऐसे मे सोनम का ये ट्वीट काफी ज्यादा चर्चा का विषय बना हुए है | लोग सोनम को उनके निष्ठुर रवैये के लिये उनकि आलोचना कर रहे हैं |

भेदभाव को सही ठहराने वाला है सोनम का ट्वीट 

सोनम के इस ट्वीट से भेदभाव की बू आती है | उनके अनुसार अगर कोई स्टार किड को टैलेंट न होने के बावजूद मौके पर मौके मिलते रहते हैं तो ये एकदम जायज है | तथा कई बार किसी और संघर्षरत तथा ज्यादा टैलेंटेड कलाकार को अनदेखा कर के भी स्टार किड्स को मौके मिलते हैं तो ये भी सोनम के अनुसार उनके कर्म ही हैं |

कहीं न कहीं हर ऊँची जगह पर बैठा इंसान अपने से निचे के इंसान की स्थिति को सही ठहराने के लिये इसी तर्क का सहारा लेता है |

उनका यह एक ट्वीट एक साथ जातिवाद तथा वर्ग के भेदभाव को भी बढ़ावा देता है | इस तरह तो हर ऊँची जाती के लोगों को दूसरी जाती के लोगों के शोषण करने का लाइसेंस मिल जाता है | शायद फिर हर अमिर को गरीबों का शोषण करना कानून का हिस्सा माना जाना चाहिए | 

इस तरह की घटनाएँ हमे यह समझाती हैं कि हमे अपने हीरो सोच समझकर चुनना चाहिए |