लोकसभा चुनाव/ महागठबंधन में बरक़रार सस्पेंस ख़त्म

Spread the love
पटना में हुए संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में सीट शेयरिंग और उम्मीदवारों को लेकर जानकारी देते राजद नेता तेजश्वी यादव

बीते एक हफ्ते से सीटों के बटवारे को लेकर महागठबंधन में चल रहा विवाद आज आख़िरकार तेजश्वी यादव के प्रेस कांफ्रेंस के साथ थम गया| राजद नित महागठबंधन ने सीटों की संख्या के बाद घटक दलों के बीच सीटों का बंटवारा कर लिया| इसके साथ ही जहाँ एक तरफ राजद ने अपने 18 सीटों के लिए उम्मीदवारों के नामों की घोषणा भी कर दी है| वही दुसरे तरफ कांग्रेस ने भी अब तक अपने खातो में आई 9 सीटों में सात सीटों के लिए उम्मीवारों का ऐलान कर दिया है| पटना में हुए इस प्रेस कांफ्रेंस के दौरान वीआईपी और हम के उम्मीवारों की भी घोषणा कर दी गई| हालाँकि अब तक रालोसपा ने अपने उम्मीदवारों के नाम का एलान नहीं किया है|

पटना में संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस कर सीटो और प्रत्याशियों के बारे में विस्तार से बताया गया| संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में जहाँ तेजस्वी यादव, पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी, वीआईपी पार्टी के अध्यक्ष मुकेश सहनी सहित अन्य घटक दलों के प्रतिनिधि शामिल हुए थे| वहीं इस संयुक्त पीसी से कांग्रेस की प्रदेश इकाई के चीफ मदन मोहना झा और रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा नदारद थे| उल्लेखनीय है कि इससे पहले ये संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस गुरुवार को होनी थी, जो उस वक़्त टाल दिया गया था|

राजद के खाते में कौन-कौन सीटें आई?

राजद के खाते में आई सिटों में भागलपुर, बांका, मधेपुरा, दरभंगा, वैशाली, गोपालगंज, सीवान, महाराजगंज, सारण, हाजीपुर, बेगूसराय, पाटलिपुत्र, बक्सर, जहानाबाद, नवादा, झंझारपुर, अररिया, सीतमढ़ी समेत शिवहर सिट शामिल है|

कांग्रेस के खाते में आने वाली सीटें:

किशनगंज, पूणिया, कटिहार, समस्तीपुर, मुंगेर, पटनासाहिब, सासाराम, वाल्मीकि नगर और सुपौल

आरएलएसपी के हिस्से में आई सीटें:

पश्चिमि चंपारण, पूर्वी चंपारण, उजियारपुर, काराकाट और जमुई

जीतन राम मांझी की पार्टी (हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा) के खाते में आने वाली सीटें : नालंदा, औरंगाबाद और गया

विकासशील इन्सान पार्टी के खाते में आई सीटें: मधुबनी, मुजफ्फरपुर और खगड़िया

इससे पहले प्रेस कांफ्रेंस को शुरू करते हुए राजद नेता व बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजश्वी यादव ने कहा कि कई दिनों से उम्मीदवारों के नाम का इंतजार था| उन्होंने इसमें आगे जोड़ते हुए कहा कि महागठबंधन अटटू है, यह जनता के दिलों का गठबंधन है| हम लोकतंत्र को बचाने के लिए लड़ रहे हैं| हमने दो चरणों के लिए उम्मीवारों की घोषणा पहले की कर दी है|

Shivam

सबसे मुश्किल काम होता है खुद के बारे में कहना. मेरी पहचान एक छात्र के रूप में है. शुरू से ही पाठ्यक्रम के पढाई से अलावा मिलने वाले समय को भरने के लिए कुछ न कुछ पढता रहता था. या यूँ कहे पढता कम उधेरता ज्यादा था. ऐसे ही एक दिन पढ़ते-पढ़ते सोचा चलो लिखता हूँ. बस आ गया, और एक बार जो आ गया तो आ ही गया....

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *